मंच पर सक्रिय योगदान न करने वाले सदस्यो की सदस्यता समाप्त कर दी गयी है, यदि कोई मंच पर सदस्यता के लिए दोबारा आवेदन करता है तो उनकी सदस्यता पर तभी विचार किया जाएगा जब वे मंच पर सक्रियता बनाए रखेंगे ...... धन्यवाद   -  रामलाल ब्लॉग व्यस्थापक

रविवार, 28 अगस्त 2011

भाग्यवान लड़की के मामले में तुम थोडा लेट हो........अरशद अली

लड़की वाले डरे-डरे से थे...
लड़के वाले हरे-भरे से थे..
हाँथ में थाल लिए कन्या जैसे आई
लड़के की माँ, पति पर चिल्लाई
मुझे सातवीं बार वही लड़की दिखला रहे हो
जगह बदल बदल कर एक हीं घराने में आ रहे हो

पति झुंझला गया
अपनी औकात पर आ गया
कहा,
भाग्यवान लड़की के मामले में तुम थोडा लेट हो...
क्या करोगी जब मामला पहले से सेट हो..
हर बार लड़की देख कर कहती हो
लड़की काली है
यही काली लड़की तुम्हारे बेटे के बच्चे की माँ बनने वाली है

श्रीमती बोली, मुझे उम्मीद नहीं था बेटे की नादानियों पर
तुम भी गुल खिलाओगे
अगर शादी यहाँ करोगे तो दहेज़ में क्या पाओगे?

लड़की चुप्पी तोड़ कर कही,
सासु अम्मा ...आज-कल में ले चलिए तो गाड़ी,फ्रीज़,टीवी
सब ले जाइएगा
चार महीने अगर लेट करियेगा तो दहेज़ में
एक पोता भी पाइयेगा

13 टिप्पणियाँ:

"दुर्घटना से देर भली" यहाँ गलत साबित हो रही है.

हा हा हा………सही है।

लड़की चुप्पी तोड़ कर कही,
सासु अम्मा ...आज-कल में ले चलिए तो गाड़ी,फ्रीज़,टीवी
सब ले जाइएगा
चार महीने अगर लेट करियेगा तो दहेज़ में
एक पोता भी पाइयेगा

चार महीने अगर लेट करियेगा तो दहेज़ में
एक पोता भी पाइयेगा
.....सही है.....

लड़के वाले हरे-भरे से थे..एक पोता भी पाइयेगा

Wah

चार महीने अगर लेट करियेगा तो दहेज़ में
एक पोता भी पाइयेगा

वाह क्या बात है आपके लेखन मे !

भाग्यवान लड़की के मामले में तुम थोडा लेट हो...
क्या करोगी जब मामला पहले से सेट हो..

श्रीमती बोली, मुझे उम्मीद नहीं थी बेटे की नादानियों पर

सही लिखा है दुनिया बड़ी तेज है

लड़की चुप्पी तोड़ कर कही,
सासु अम्मा ...आज-कल में ले चलिए तो गाड़ी,फ्रीज़,टीवी
सब ले जाइएगा
चार महीने अगर लेट करियेगा तो दहेज़ में
एक पोता भी पाइयेगा

श्री अरशद अली जी,

मैं जान बूझ कर यह संदेश यहां दे रहा हूँ ताकि आप तक जल्दी पहुंचे. मैंने इसे शिकायत एवं सुझाव वाले पृष्ठ पर दिया है.

इस पर विचारिए एवं सहमत हों तो कार्रवाई करें.


Rangraj Iyengar says:
बृहस्पतिवार, 30 अगस्त, 2012 Reply

श्रीमान,

अब तो ऐसा विश्वास होने लगा है कि यह ब्लॉग बंद हो चला है. इस वर्ष के कुल लेखों में केवल तीन का नाम है - श्री मार्कंड दवे, श्री अर्शद अली और एम. आर.अयंगर.

क्या इसे जारी रखने का कोई औचित्य नजर आता है.

मैं इस पर अपने लेख देना रोक रहा हूँ.

मुझे जानना है कि मेरी इस शिकायत या सुझाव को कौन कब देखता है और उनका प्रतिक्रिया क्या होती है.

अयंगर. 09425279174
8462021340

एक टिप्पणी भेजें

कृपया इन बातों का ध्यान रखें : -
***************************
***************************
1- लेख का शीर्ष अवश्य लिखें.
=====================================================
2- अपनी पोस्ट लिखते समय लेबल में अपना नाम अवश्य लिखें.
=====================================================
3- लेख की विधा जैसे व्यंग्य, हास्य कविता, जोक्स आदि लिखें.
=====================================================
4- तदुपरांत अपने पोस्ट/लेख के विषय का सन्दर्भ अपने-अनुसार लिखें.
=====================================================
*************************************************************
हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन की सदस्यता लेने के लिए यहा क्लिक करे