मंच पर सक्रिय योगदान न करने वाले सदस्यो की सदस्यता समाप्त कर दी गयी है, यदि कोई मंच पर सदस्यता के लिए दोबारा आवेदन करता है तो उनकी सदस्यता पर तभी विचार किया जाएगा जब वे मंच पर सक्रियता बनाए रखेंगे ...... धन्यवाद   -  रामलाल ब्लॉग व्यस्थापक

शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

भगवान शिवजी और आदिवासियो का चढ़ावा

 

अष्टावक्र


                                            

धरती से शिव पूजन अटेंड कर कैलाश लौटे भोलेनाथ को मुस्कुराते और थोड़ा लड़खड़ाते देख मां पार्वती के मन मे शक उत्पन्न हुआ  । उन्होने प्रभु से कारण पूछा परंतु वे बात को अनसुना कर सीधे शयन कक्ष चले गये और २ मिनट मे ही उनके खर्राटों की आवाज आने लगी । भगवान के समीप जाने पर माता को महिला इत्र की खुशबू आयी उन्होने से सोचा आज क्या हुआ है इसका पता लगाना ही होगा

 माता ने एक बड़े से थाल मे नाना तरह के व्यंजन रखे और साथ ही 100 ग्राम सूखी घांस भी रख ली । नंदी के पास पहुच कर माता ने सूखी घास उसके सामने रख वापस मुड़ी ही थी कि नंदी चीत्कार कर उठा मै मुखबिरी करने को तैयार हूं माते । मुस्कुराते हुये माता ने कहा फ़टाफ़ट  आज का घटनाक्रम पूरा बताओ  । नंदी बोला आज प्रभु बड़े खदानपति के यहां गये थे । आर्गेनिक सामग्री से बने वहां नाना प्रकार के व्यंजन , मदिरा थी । प्रभु  को जानी वाकर की ब्लू लेवल व्हिस्की का भोग लगा सुंदर सुंदर महिलाये प्रभु से चिपक कर ऐसा नाच गा रही थी की पूछो मत । वो तो मै था जो प्रभु का पतित्व बचाकर उनको ले आया -  नंदी ने गर्व से कहा

अगले दिन सुबह जब प्रभु तैयार होकर निकल रहे थे तो माता ने टोका क्या बात है आजकल आप केवल अमीरो के यहां जाते हैं बाकी भक्तो ने क्या पाप किये हैं । पिछले कई सालों से आप किसी आदिवासी भक्त के बुलावे मे नही गये क्या आप अब  मेदभाव करने लगे हैं । प्रभु ने नंदी की झुकी हुई गरदन देख सारा माजरा समझ लिया । मुस्कुराकर माता से बोले क्या बिना कामदेव की मदद से तुम मुझे बहला पायी थी जो इस मक्कार की बातों मे आ रही हो । मेरे लिये स्त्री क्या पुरूष क्या मै तो जहां स्वादिष्ट भोग चढ़ता है और लोग प्रेम से बुलाते हैं वहीं चला जाता हूं । माता फ़िर भी अड़ी रहीं मै कुछ नही जानती पहले की बात और थी  कलयुग मे पतियो का कोई भरोसा नही है ।  जब तक मैं न कहूं आपको आदिवासियो के यहां ही जाना होगा  क्या आपको आदिवासी स्वादिष्ट चढ़ावा नही चढ़ाते ।

प्रभु ने आदिवासियो का चढ़ावा याद कर ठंडी सांस ली और बोले उनका चढ़ावा तो मुझे सबसे प्रिय है । बेल बेर आम जामुन शह्तूत गंगाइमली  धतूरा आदि नाना प्रकार के जंगली फ़ल , तरह तरह के कंदमूल, पलाश आदि फ़ूल , जंगली जड़ीबूटिया खाने वाली गायो का शुद्ध पीला दूध , महुआ सल्फ़ी आदी जड़ीबूटी मिश्रित मदिरा , चिरौंजी , दो वर्षो बाद खेत से निकाली हुई कुटकी का अनाज आहा इनके लिये तो मै स्वयं नारायण की दावत भी ठुकरा सकता हूं

प्रसन्न चित माता ने कहा फ़िर आज से तुम उनकी ही पूजा मे जाओगे । प्रभु ने बुझे मन से कहा प्रिये अब आदिवासी है कहां जो मै जाउं माता ने तुरंत रजिस्टर सामने किया ये देखो करोड़ो हैं । प्रभु ने कहा प्रिये अब ये केवल सरनेम के आदिवासी हैं । ये सब अब मिलो मे , खदानो मे और भवन निर्माण के कार्यो मे रत गरीब मजदूर हैं । इनके यहां जाउगा तो ३ रू. किलो वाला सरकारी चावल जहरीली शराब और किसी विवाह समारोह से उठाये हुये बासी फ़ूल ही मिलेंगे । दूध चढ़ायेंगे तो यूरिया मिला सब्जी देंगे तो जहर मिली । देवताओ के हिस्से का विष पीने के बाद अब मुझमे और विष पीने की ताकत नही

अचंभित माता ने कहा ऐसा कैसे हो गया अब ये सब अपना पुराना चढ़ावा क्यो नही ला सकते । जब मै आदिवासियो के यहा आपके साथ जाती थी तब तो वे बड़े खुशहाल लोग थे । शाम को वे कैसे भव्य नाचगाना करते थे उनमे से किसी ने  आपसे भोजन  नही मांगा था और वे कभी भूखे भी नही सोते थे । प्रभु ने जवाब दिया उनको भोजन देने वाला जंगल अब नही रहा प्रिये पूंजीवाद ने फ़ल और फ़ूलदार पेड़ो को  सफ़ाचट करके उनके बदले अपने मतलब के इमारती पेड़ जैसे सागौन धावड़ा साल नीलगिरी आदि लगा दिये । ये इमारती जंगल आदिवासियो और वन्यप्राणियो के लिये बांझ है । इनमे भोजन का एक दाना भी नही । नतीजतन ये आदिवासी मजदूर हो गये अब तुम बताओ जो खुद का पेट नही भर सकते उनपर मै अपना बोझ कैसे डालूं


माता भड़क गयी आप भी गजब भगवान हो जिन लोगो ने आपके भक्तो का ये हाल किया आप उनकी पूजा स्वीकार करते हो आपको शर्म नही आती । प्रभु उदास भाव से बोले तुम्ही बताओ भगवान को पूजा और भोग तो चाहिये न बिना भक्तो के भगवान है कहां । फ़िर प्रभु ने मुस्कुरा कर कहा मै तो हूं ही भोलेनाथ क्या रावण क्या राम मै तो हर किसी को वरदान दे देता हूं । कहो तुम इसी भोलेपन पर रीझ कर ही तो मुझसे विवाह करने आयी थी कि नही । रही बात पूंजीपतियो की इनके पाप का घड़ा भरने दो ऐसा जनसैलाब उठेगा कि इनको नानी याद आ जायेगी ।

हां तुम सरकारी अधिकारियों और नेताओं को समझा कर इन इमारती वनो को मूल प्राक्रुतिक वनो मे बदलवा सको तो देख लो । इससे आदिवासियो का जीवन फ़िर से खुशहाल हो जायेगा और मै इनका चढ़ावा  छोड़ कभी माडर्न भक्तिनियो के पास नही जाउंगा । माता जैसे जाने को तत्पर हुई तो प्रभु ने कहा - सुनो बाघ को लेकर मत जाना कही संसारचंद शिकार न कर ले । एक काम करो इस नंदी को ले जाओ वैसे भी ये चुगलखोर अब मेरे किसी काम का नही । प्रभु फ़िर धीरे से फ़ुसफ़ुसा कर नंदी से कहा जा बेटा सरकारी दफ़्तरो के चक्कर काट काट कर तेरे खुर न घिस गये तो मेरा नाम भी महादेव नही ।

5 टिप्पणियाँ:

बहुत ही अच्छा पोस्ट है आपका !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se

बहुत सुन्दर व्यंग्य के माध्यम से आप ने व्यवस्था पर प्रहार किया है!

बहुत सुंदर व्यंग लिखा है आपने ,

बहुत बढ़िया लगा इस मंच पर आकर

अति सुंदर व्यंग लिखा है ,
*
बढ़िया लगा

आदरणीय श्रीरामलालजी,

आप को अफसोस व्यक्त करने की जरुरत नहीं है,मंच के कुछ नियम होते हैं और आपने उसी नियमों का पालन किया है । वैसे ग़लती मेरी थी, अतः सारे सदस्य से क्षमा याचना मुझे माँगना चाहिए । आइन्दा मैं इस बात का अवश्य ध्यान रखूँगा ।

हास्य-व्यंग मंच को नये आकर्षक रंग रूप में देखकर बहुत अच्छा लगा ।

आपको और आपकी टीम को बहुत-बहुत बधाई ।

सभी की कुशल मंगल की कामना सह ।

मार्कण्ड दवे ।

एक टिप्पणी भेजें

कृपया इन बातों का ध्यान रखें : -
***************************
***************************
1- लेख का शीर्ष अवश्य लिखें.
=====================================================
2- अपनी पोस्ट लिखते समय लेबल में अपना नाम अवश्य लिखें.
=====================================================
3- लेख की विधा जैसे व्यंग्य, हास्य कविता, जोक्स आदि लिखें.
=====================================================
4- तदुपरांत अपने पोस्ट/लेख के विषय का सन्दर्भ अपने-अनुसार लिखें.
=====================================================
*************************************************************
हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन की सदस्यता लेने के लिए यहा क्लिक करे