मंच पर सक्रिय योगदान न करने वाले सदस्यो की सदस्यता समाप्त कर दी गयी है, यदि कोई मंच पर सदस्यता के लिए दोबारा आवेदन करता है तो उनकी सदस्यता पर तभी विचार किया जाएगा जब वे मंच पर सक्रियता बनाए रखेंगे ...... धन्यवाद   -  रामलाल ब्लॉग व्यस्थापक

रविवार, 24 अप्रैल 2011

लौट के बुद्धु आया घर ....

गधे नें सीख लिया कंप्यूटर

बैठा रहता दिन-दिन भर

वो अपने काम को जाता

न ही बच्चों से बतियाता

करता रहता दिन भर चैट

दोस्त बन गए उसके रैट

आया जीवन में बदलाव

खाने लगा गधा भी भाव

कुछ दिन तक तो चली कहानी

खत्म हो गया राशन पानी

गधी नें बेलन एक उठाया

गधे के जा सर पर घुमाया

भागा अपनी बचा के जान

पहुंचा धोबी की दुकान

दिन भर बोझा खूब उठाया

शाम को घर जब वापिस आया

चूर हो गया गधा थक कर

सोया खूब पेट भर कर

भूल गया उसको कंप्यूटर

लौट के बुद्धु आया घर

यह कविता http://www.nanhaman.blogspot.com/ से ली गयी है

7 टिप्पणियाँ:

लौट के बुद्दू घर आया-हास्यपरक कविता अच्छी लगी।धन्यवाद।

बुद्दू को लौटकर घर वापस आना ही चाहिए..!! सभी गधे रोज़ ऐसा ही तो करते हैं?

हा..हा..हा..!!

ये तो ब्लॉगर की कहानी है कविता में।

एक टिप्पणी भेजें

कृपया इन बातों का ध्यान रखें : -
***************************
***************************
1- लेख का शीर्ष अवश्य लिखें.
=====================================================
2- अपनी पोस्ट लिखते समय लेबल में अपना नाम अवश्य लिखें.
=====================================================
3- लेख की विधा जैसे व्यंग्य, हास्य कविता, जोक्स आदि लिखें.
=====================================================
4- तदुपरांत अपने पोस्ट/लेख के विषय का सन्दर्भ अपने-अनुसार लिखें.
=====================================================
*************************************************************
हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन की सदस्यता लेने के लिए यहा क्लिक करे